Tuesday, December 16, 2008

शायरी

दिल के जज्बातों को छुपाना आसान नही होता, दिल में दर्द हो तो मुस्कुराना आसान नही होता।
कहते है लोग कि हमे कोई गम नही है, औरो को हमारी तरह मुस्कुरा कर दर्द छुपाना नही आता॥

हसी तो देखी है लोगो ने मेरे लबो पर लेकिन दिल के ज़ख्म किसी ने नही देखा,
बात को हम छुपा जाते है इसी लिए किसी ने भी मेरी नम आखो को नही देखा।

किसी बताये अपना हाल-ऐ-दिल जब मेरे महबूब को ही यकीन नही है,
उन्हें तो लगता है कि हमने उनसे कभी प्यार किया ही नही।
कैसे यकीन दिलाये उन्हें कि कितना प्यार हम करते है,
नाम उनका ले के सुबह होती है हमारी और उन्ही का नाम ले कर अपना दिन हम ख़तम करते है।

दिल के धड़कने पे तो हमारा ज़ोर नही है,
उन्हें दिल से निकाल पाना हमारे बस में नही है।

2 comments:

Amitabh Arun Lall said...

sabhi ke saath kucchh na kucchh laga rehta hai.. jo unko lekar pareshaan rehte hain aur tension lete hain, wo log stagnant ho kar reh jaate hain.. mera maan na hai have faith and be optimistic, but dont rely that you will get what u want.. if you have in destiny what you want, no one can stop things going your way.. if it does not, do not stress yourself.. keep moving.. something better is on your way.. what you deserve.. I believe if what you want happens, it is good.. if it doesnot happen it is better as it is what somebody else wants.. that 'somebody' is GOD. and GOD will never do anything wrong. It has to be the best.

Amitabh Arun Lall said...

A bit more to add..
Dont moan if something bad is happening, take every situation as a new opportunity to learn more about things and use your skills and ability to come out of it with flying colours.. it will help you in becoming a better, well equipped person..

Day 426

It has been more than a fortnight since I wrote my last blog. I know again I’m becoming irregular in writing the post. Numerous times ...