Thursday, October 2, 2008

Shayari

1. जब हम पास ना होंगे तो हमे याद करोगे।
जब आँखे होंगी नम तो उन्हें पोछने के लिए हम ना होंगे।
2. हम ना होंगे तो हमारी यादे होंगी।
जब चले जायेंगे तेरी महफिल से तो हमारी ही बाते होंगी।
3. मेरे बिना होंगी तेरी महफिल सुनी सुनी सी तब तुम्हे याद आयेंगे हम।
तब शायद तेरे बुलावे पे ना आयेंगे हम।
4. तेरी यादो के सहारे कट जायेगी यह जिन्दगी हमारी अब।
याद करोगी तुम भी हमे लेकिन तुम्हारे पास न होंगे हम तब।

No comments:

Day 394

Today, I was in mood to write about the counting of the Presidential Election held on Monday 17 July 2017. It’s not like that I won’t ...